टीम इंडिया ने द. अफ्रीका को इस तरह किया बेइज्जत, नहीं कर सकी थी कोई भी टीम

सेंचुरियन में खेले गए दूसरे वनडे मैच में विराट कोहली के नेतृत्व वाली टीम इंडिया ने द. अफ्रीकी टीम को 118 रन पर ऑल आउट कर दिया। द. अफ्रीका की टीम अपने घर में ही पूरे 50 ओवर खेलने में नाकाम रही। द. अफ्रीका की टीम सिर्फ 32.2 ओवर में ही निपट गई। मेजबान टीम को उन्ही के घर में धराशाई करने में अहम भूमिका भारतीय स्पिन गेंदबाज़ों ने निभाई। युजवेंद्र चहल ने पांच विकेट लिए तो कुलदीप यादव ने तीन शिकार कर द. अफ्रीकी टीम की कमर ही तोड़ दी। इसी के साथ भारतीय टीम ने प्रोटियाज़ के खिलाफ एक ऐसा काम भी कर दिया जो आजतक तक दुनिया की कोई भी टीम नहीं कर सकी थी।

टीम इंडिया ने इस तरह द. अफ्रीका को किया शर्मसार

भारत ने सुपर स्पोर्ट्स पार्क में द. अफ्रीका को 118 रन पर ढेर कर दिया। अपने घर में खेलते हुए द. अफ्रीकी टीम का ऑल आउट होने के बाद ये सबसे कम स्कोर रहा। चहल और कुलदीप ने प्रोटियज़ को अपनी फिरकी के फंदे में फंसाकर वनडे में उनकी धरती पर सबसे कम (118 रन) स्कोर पर ऑल आउट कर दिया। इससे पहले उसका अपने घर में ऑल आउट होने के बाद सबसे कम स्कोर 119 रन का था। जो उसने 2009 में इंग्लैंड के खिलाफ पोर्ट एलिज़ाबेथ में बनाया था। लेकिन टीम इंडिया ने मेजबान टीम को 118 रन पर समेट दिया और उसे उसके ही घर में शर्मसार कर दिया।

 

इस उपलब्धि को पीछे छोड़ने से चूका भारत

सेंचुरियन में द. अफ्रीका को 118 रन पर समेट कर भारतीय टीम अपनी एक उपलब्धि को पीछे छोड़ने से चूक गई। इससे पहले भारत के खिलाफ खेलते हुए द. अफ्रीका का सबसे कम स्कोर 117 रन था, लेकिन इस पारी में प्रोटियाज ने 118 रन बनाए और टीम इंडिया अपनी इस उपलब्धि को पीछे छोड़ने सिर्फ एक रन से चूक गई। 1999 में नैरोबी में द. अफ्रीका की पूरी टीम सिर्फ 117 रन पर ही सिमट गई थी।

 

इस तरह ऑल आउट हुई द. अफ्रीका

अमला 23 रन बनाकर भुवनेश्वर कुमार की गेंद पर धौनी को कैच थमा बैठे और भारत को मिली पहली सफलता। 20 रन बनाकर डि कॉक बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में चहल की गेंद पर पांड्या को कैच थमा बैठे। चहल को ये विकेट 13वें ओवर की आखिरी गेंद (12.5) पर मिला और फिर वो ओवर समाप्त हो गया। इसके बाद 13.1 गेंद पर कुलदीप यादव ने द. अफ्रीकी कप्तान मार्करम को चलता कर दिया। मार्करम ने बड़ा शॉट लगाने की कोशिश की और भुवी ने एक शानदार कैच लेकर उन्हें पवेलियन लौटने पर मजबूर कर दिया। इसके बाद डेविड मिलर को कुलदीप ने खाता तक खोलने का मौका नहीं दिया और वो रहाणे को कैच देकर अपना विकेट गंवा बैठे। इसके बाद खाया जोंड़ो भी 25 रन बनाकर चहल की गेंद पर आउट हुए उन्हें हार्दिक पांड्या ने कैच आउट किया। डुमिनी 25 रन बनाकर चहल की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हो गए और भारत को मिली छठी सफलता। इसके अगले ओवर में कुलदीप यादव ने रबादा (01) को एलबीडव्ल्यू आउट कर भारत को सातवीं सफलता दिला दी। इसके अगले ही ओवर में मोर्ने मोर्कल (01) चहल की गेंद पर एलबीडव्ल्यू आउट हो गए और द. अफ्रीका को लगा आठवां झटका। इमरान ताहिर (00) को बुमराह ने बोल्ड कर भारत को नौवीं सफलता दिला दी। इसके बाद अगले ही ओवर में चहल ने क्रिस मॉरिस (14) बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में भुवी को कैच थमा बैठे। मॉरिस के विकेट के साथ ही द. अफ्रीका की पारी भी सिमट गई।

Loading...
E-Paper