…तो इसलिए गिरा था पीएम की रैली के दौरान पांडाल

कोलकाता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पश्चिम बंगाल यात्रा के दौरान पांडाल गिरने की घटना से भारी हड़कंप मच गया था, बीजेपी कार्यकर्ताओं ने राज्य सरकार के खिलाफ जमकर बयानबाज़ी की थी, साथ ही ममता सरकार को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया था. इस घटना में लगभग 90 लोग घायल हुए थे.

इसी की जाँच करने के लिए एक उच्च स्तरीय केंद्रीय दल मंगलवार को पश्चिम बंगाल के मेदनीपुर जिले पहुंचा. सूत्रों ने बताया है कि गृह विभाग की संयुक्त सचिव अनिता भटनागर और विशेष सुरक्षा टीम के दो अधिकारी एस के सिंह और एम सिद्धि मामले की जांच करने के लिए पश्चिम बंगाल पहुँच गए हैं. बताया जा रहा है कि ये टीम सुरक्षा में चूक और रैली आयोजित होने के समय कि गई अन्य खामियों की भी जांच कर रही है.

स्थानीय सूत्रों के अनुसार विशेष जांच टीम ने रैली से जुड़े आला अधिकारीयों के अलावा, जिला मजिस्ट्रेट, पुलिस अधीक्षक और स्वास्थ्य अधिकारियों से भी मुलाकात की. इसके अलावा टीम ने हादसे के दौरान घायल हुए लोगों से भी मुलाकात की. अधिकारीयों ने बताया कि जांच में पता चला है कि पांडाल लगाने के लिए इस्तेमाल किए गए लोहे के खम्बों में जंग लगा हुआ था, साथ ही उन्हें ठीक से गाड़ा भी नहीं गया था, जिस वजह से खम्बों की पकड़ कमज़ोर होने के कारण पांडाल गिर गया था. 

E-Paper