बॉलीवुड की महानायिका सोनाली बेंद्रे को हुई ये बड़ी बीमारी, न्यूयॉर्क में चल रहा है इलाज

बॉलीवुड की खूबसूरत अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे को कैंसर हो गया है. उन्होंने खुद ट्विटर पर पोस्ट कर इसकी जानकारी दी है. हालांकि कि अभी तक उनको कौन सा कैंसर है और वह किस स्टेज में है, यह पता नहीं चला है, लेकिन उन्होंने कहा है कि यह हाई ग्रेड में है. बुधवार को उन्होंने अपनी और अपने पति गोल्डी बहल की तस्वीर पोस्ट करते हुए इसकी जानकारी साझा की. तस्वीर के साथ उन्होंने लंबा कैप्शन लिखा है जिसमें उन्होंने इस घातक बीमारी के बारे कैसे उनको जानकारी मिली, इसकी चर्चा है. उन्होंने बताया है कि अभी उनका न्यूयॉर्क में इलाज चल रहा है.

ट्विटर पर लिखे पोस्ट में अभिनेत्री ने परिवार और दोस्तों का शुक्रिया अदा किया है. कभी-कभी जब आपको जरा भी उम्मीद नहीं होती जिंदगी अचानक आपको अजीब से मोड़ पर लाकर खड़ा कर देती है. हाल ही में मुझे हाई-ग्रेड कैंसर डायग्नोस हुआ है, जिसके बारे में वाकई हमें पता तक नहीं था. हल्के दर्द के चलते कुछ टेस्ट करवाए, जिससे ऐसी रिपोर्ट आई जिसकी उम्मीद तक नहीं थी। मेरा परिवार और मेरे दोस्त मेरे चारों तरफ मजबूती से खड़े हैं और पूरा साथ दे रहे हैं। मैं बहुत खुशकिस्मत और उन सबकी आभारी हूं.’ 

इससे निपटने के लिए तुरंत ऐक्शन लेने से बेहतर कोई तरीका नहीं था. इसलिए अपने डॉक्टरों की सलाह पर मैं न्यू यॉर्क में इलाज करवा रही हूं. हम सकारात्मक रहें और मैं हर कदम पर लड़ने को तैयार हूं. मुझसे जिससे बहुत मदद मिली वह बीते कुछ सालों में मिलने वाला प्यार और सपॉर्ट है, जिसके लिए मैं आभारी हूं. मैं इस जंग में आगे बढ़ रही हूं यह जानते हुए कि मेरे पीछे मेरे परिवार और दोस्तों की ताकत है.

गौरतलब है कि इरफान खान भी इन दिनों भारत से दूर लंदन में अपनी गंभीर बीमारी का इलाज करवा रहे हैं. वो न्यूरोएंडोक्राइन कैंसर से जूझ रहे हैं. हाल ही में इरफान ने अपना दर्द बयां करते हुए अपनी बीमारी को लेकर एक पत्र लिखा था.

https://www.instagram.com/p/Bgd2LMFFDhd/?utm_source=ig_embed

इरफान ने नोट में लिखा, ‘कुछ महीने पहले अचानक मुझे पता चला कि मैं न्यूरोएन्डोक्राइन कैंसर से ग्रस्त हूं. यह शब्द मैंने पहली बार सुना था. जब मैंने इसके बारे में सर्च की तो पाया कि इस पर ज्यादा शोध नहीं हुए हैं. इसके बारे में ज्यादा जानकारी भी मौजूद नहीं थी. यह एक दुर्लभ शारीरिक अवस्था का नाम है और इस वजह से इसके उपचार की अनिश्चितता ज्यादा है. अभी तक मैं तेज रफ्तार वाली ट्रेन में सफर कर रहा था. मेरे कुछ सपने थे, कुछ योजनाएं थीं, कुछ इच्छाएं थीं, कोई लक्ष्य था.’ लेकिन अचानक ही किसी ने मुझे हिलाकर रख दिया मैंने पीछे देखा तो वो टीसी था.

उसने कहा, आपको स्टेशन आ गया है कृपया नीचे उतर जाइए. मैं कन्फ्यूज हो गया. मैंने कहा नहीं अभी मेरी मंजिल नहीं आई है. उसने कहा- नहीं आपको अगले किसी भी स्टॉप पर उतरना होगा. ‘ इस डर और दर्द के बीच मैं अपने बेटे से कहता हूं, ‘मैं किसी भी हालत में ठीक होना चाहता हूं . मुझे अपने पैरों पर वापस खड़े होना है.  मुझे ये डर और दर्द नहीं चाहिए. कुछ हफ्तों के बाद मैं एक अस्पताल में भर्ती हो गया. बेइंतहा दर्द हो रहा है .

Loading...
E-Paper