पूर्व प्रधानमंत्रियों और पहले के दिग्गज नेताओं पर ऊँगली उठाना लोकतंत्र के लिए सही परंपरा नहीं: फारूक अब्दुल्ला

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला ने मंगलवार को सरकार से जम्मू-कश्मीर की जनता को दिल से लगाने और प्रदर्शनकारी किसानों की बात सुनने की अपील करते हुए कहा कि भगवान राम हम सबके हैं और यदि अल्लाह एवं भगवान में फर्क किया गया तो देश टूट जाएगा। लोकसभा में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए अब्दुल्ला ने यह भी कहा कि पूर्व प्रधानमंत्रियों और पहले के दिग्गज नेताओं पर ऊँगली उठाना लोकतंत्र के लिए सही परंपरा नहीं है।

अब्दुल्ला ने सत्ता पक्ष से मुखातिब होते हुए कहा कि, ”भगवान और अल्लाह एक हैं। यदि इनमे फर्क करेंगे, तो देश टूट जाएगा। यदि आपने कोई गलती की, तो हम आपको सही करेंगे और हम गलती करेंगे तो आप ठीक करेंगे। इसी तरह देश चलता है।” अब्दुल्ला ने आगे कहा कि, ”आज हमें आप पाकिस्तानी कहते हैं, खालिस्तानी कहते हैं, चीनी कहते हैं। मुझे मरना यहां है, जीना यहां है। मैं किसी से नहीं डरता। मुझे केवल ऊपर वाले को जवाब देना है।”

उन्होंने आगे कहा कि, ”राम तो पूरे विश्व के राम हैं। यदि वो विश्व के राम हैं तो हम सबके राम हैं। कुरान केवल हमारा नहीं, सबका है। बाइबल सबका है।” अब्दुल्ला ने सत्तापक्ष के लिए कहा कि, ”हमने आपको कभी दुश्मन नहीं माना। आपको अपना हिस्सा माना। अब जब विपक्ष में होंगे तो आपका सम्मान करेंगे और आपसे अधिक करेंगे।”

Loading...
E-Paper