भाजपा के हेम आर्य ने कांग्रेस का हाथ थामने के बाद सरिता आर्य पर निकाली भड़ास

हल्द्वानी: भाजपा में बगावत कर विधानसभा चुनाव लड़ चुके हेम आर्य ने मंगलवार को स्वराज आश्रम में कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। यहां कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह व नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश की उपस्थिति में आयोजित समारोह में जहां हेम व उनकी पत्नी जिला पंचायत सदस्य नीमा का भव्य स्वागत हुआ, वहीं इन्हें पार्टी में आने से रोकने के लिए पूरा जोर लगा चुकीं महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य पर जमकर भड़ास निकाली गई। मंच से सभी नेताओं ने उनकी ज्वाइनिंग पर अड़चनें डालने की कोशिश करने के मामले में अलग-अलग तरीके से नाराजगी जाहिर की।

प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम ने कहा कि जिस उम्मीद से हेम व उनकी पत्नी नीमा ने 220 लोगों के साथ कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की, पार्टी उनके विश्वास पर खरा उतरेगी। उन्होंने स्पष्ट तौर पर सरिता आर्य का नाम नहीं लिया, लेकिन कहा कि हेम ने किसी शर्त पर पार्टी ज्वाइन नहीं की है। उन्होंने कहा कि राजनीति में दरवाजे बंद करने पर पार्टी का विस्तार नहीं हो पाता है। अगर जिम्मेदार पदाधिकारी ही सार्वजनिक तौर पर बयानबाजी करते रहेंगे, तो हम कुछ भी फतह नहीं कर पाएंगे। 

नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश ने हेम-नीमा का स्वागत करने के साथ ही सरिता पर तीखे कटाक्ष किए। कहा कि इनके ज्वाइनिंग की दो तारीख पहले तय हो गई थी, लेकिन कभी प्रदेश अध्यक्ष को, कभी प्रदेश प्रभारी तो कभी मुझसे मुलाकात कर इनके ज्वाइनिंग न कराने के लिए कहा, इसलिए कार्यक्रम नहीं हो सका। 

उन्होंने मंच पर बात रखने की बजाय अपना विरोध सार्वजनिक कर दिया। इससे किसी और का नहीं बल्कि उन्हीं का नुकसान होगा। हेम ने कहा कि मुझे आज घर वापसी पर बहुत खुशी है। भाजपा में 22 साल रहा, लेकिन एक दिन में ज्वाइन करने वाले व्यक्ति (विधायक संजीव आर्य) को टिकट दे दिया गया। अब भाजपा आडवाणी, अटल व जोशी जैसी पार्टी नहीं रही।

पूर्व मंत्री हरीश दुर्गापाल ने कहा कि कार्यकर्ताओं को एकजुट होकर आगे आना होगा। विधायक आदेश चौहान ने कहा, इसी तरह हमें संख्या बढ़ानी होगी। मंडी परिषद के पूर्व अध्यक्ष सुमित हृदयेश ने कहा कि पार्टी नेताओं में समन्वय से ही बेहतर काम होता है। संचालन जिलाध्यक्ष सतीश नैनवाल व महानगर अध्यक्ष राहुल छिम्वाल ने किया। 

Loading...

पलट गए सरिता के सुर 

महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष व नैनीताल की पूर्व विधायक सरिता आर्य ने भाजपा के निलंबित नेता हेम आर्य को पार्टी में शामिल करने पर एक दिन पूर्व पत्र सार्वजनिक कर पार्टी तक छोड़ने का एलान कर दिया था। हल्द्वानी के स्वराज आश्रम में हेम आर्य व नीमा की ज्वाइनिंग हो गई तो सरिता के तेवर भी एकदम उलट हो गए। 

हेम के पार्टी में आने का स्वागत करते हुए बोलीं, यदि उनकी मौजूदगी में कार्यक्रम होता तो इससे कार्यकर्ताओं में बेहतर संदेश जाता। विरोध हेम को शामिल करने का नहीं बल्कि टाइमिंग का था। पार्टी संगठन को भी तालमेल का ध्यान रखना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि जानबूझकर उन्हें इस कार्यक्रम से दूर रखने के लिए ज्वाइनिंग सुबह की बजाय शाम को रखी गई। इस मामले को वह हाई कमान के समक्ष रखेंगी। पार्टी से इस्तीफे से इन्कार करते हुए संकेत दिया कि वह इस लड़ाई को आगे ले जाएंगी। 

Loading...