इन 9 आयुर्वेदिक उपचारों से, सर्दियों में फेफड़ों की होगी देखभाल, सांस लेने में नहीं होगी कठिनाई

- in स्वस्थ्य

नई दिल्ली: सर्दी के मौसम में कई तरह की बीमारियां और समस्याएं अपने पैर पसारना शुरू कर देती हैं. मौजूदा समय में कोरोना वायरस ने दुनिया की नाक में दम कर रखा है. वहीं, फ्लू और वायु प्रदूषण जैसी भयंकर समस्या लोगों का दिन-ब-दिन दम घोंट रही हैं. वहीं सांस की समस्या वालें लोगों के लिए सर्दी का मौसम किसी जानलेवा बीमारी से कम नहीं है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक डॉक्टर और आयुर्वेदिक प्रेक्टिसनर दीपा आप्टे वायु प्रदूषण से फेफड़ों पर पड़ने वाले बुरे असर बारे में बताती हैं. डॉक्टर के मुताबिक सर्दी के मौसम में न केवल फ्लू बल्कि अस्थमा, एलर्जी और ब्रोंकाइटिस फेफड़ों के लिए खतरनाक बीमारी हैं. इन बीमारियों से स्ट्रॉक खतरा बढ़ जाता है. ऐसे में आयुर्वेदिक डॉक्टर दीपा आप्टे ने सर्दियों में फेफड़ों की देखभाल करने के लिए 9 बेहतरीन उपाय सुझाएं हैं.

गर्म तिल के तेल का कुल्ला करें-

डॉ. दीपा ने सुझाव दिया है कि सुबह-सुबह खाली पेट गर्म तिल के तेल का कुल्ला करें. इसके लिए आप एक से दो चम्मच गर्म तिल का तेल लें और दो से तीन मिनट तक कुल्ला करें. इसके बाद टूथब्रश करें. इससे वायु प्रदूषण के कारण होने वाले मुंह के सूखापन को कम करने में मदद मिल सकती है.

त्रिफला काढ़ा माउथवॉश-

फेफड़ों को सुरक्षित रखने के लिए एक और प्रभावकारी आयुर्वेदिक उपचार त्रिफला काढ़ा माउथवॉश है. इसमें आप सुबह खाली पेट त्रिफला से बने काढ़े से माउथवॉश करें. त्रिफला में एंटी-इन्फ्लेमेंट्री और एंटीऑक्साइड गुण होते हैं जो हमारे इम्यूनिटी सिस्टम को बूस्ट करता है. 1,000 मिलीलीटर पानी में 100 ग्राम त्रिफला को तब तक उबालें जब तक यह आधा न हो जाए. इस मिश्रण की दो से तीन बड़ी चम्मच से दो-तीन मिनट तक कु्ल्ला करने के बाद टूथब्रश करें.

जल नेती या नेजल वॉश करें-

जल नेती आपके नासिका पथ में होने वाले संक्रमण और रुकावट को दूर करती है. सर्दी में नाक बंद होने की समस्या ज्यादा होती है. डॉ. दीपा के मुताबिक तेल की 2 से 3 बूंदों के साथ नाक को अंदर से साफ करने के लिए हल्के नमकीन घोल का उपयोग करें. तेल नाक के मार्ग को सूखने से रोकता है.

नस्य तेल या साद बिंदु तेल का इस्तेमाल करें-

नस्य और साद बिंदु तेल को अधिकतर इस्तेमाल बंद नाक को खोलने के लिए किया जाता है. डॉ. दीपा के मुताबिक, घर से बाहर निकलने से पहले इन तेल का इस्तेमाल करें. डॉ. के मुताबिक, इन तेल की दो-दो बूंद नाक में डालने से सांस लेने में आसानी होती है.

Loading...

सांस से जुड़े व्यायाम करें-

फेफड़ों को स्वस्थ बनाने के लिए जरूरी है कि आप नियमित रूप से सांस से जुड़े व्यायाम करें. इसके लिए कपालभाति और भस्त्रिका श्वास योग बेहद उपयोगी हैं.

तुलसी की पत्तियां-

डॉ. दीपा के मुताबिक, तुलसी की पत्तियों से हमारी इम्यूनिटी बूस्ट होने के साथ-साथ फेफड़ों की आयु बढ़ती है. इसलिए जरूरी है कि सुबह नाश्ते में 2-3 तुलसी की पत्तियों का सेवन करें क्योंकि इसमें इम्यूनोमॉड्यूलेटरी, एंटीट्यूसिव और एक्सपेक्टोरेंट गुण होते हैं जो सांस संबंधी बीमारी से दूर भगाते हैं.

गर्म पानी के साथ खाएं च्यवनप्राश-

सर्दी में च्यवनप्राश खाना सबसे ज्यादा लाभदायक होता है. अच्छे परिणाम के लिए एक चम्मच च्यवनप्राश को एक कप गर्म पानी में मिलाकर इसका दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करें.

फॉल्टी फूड खाने से बचें-

सर्दियों में फॉल्टी फूड जैसे कि फ्रूट के साथ डेयरी प्रोडक्ट और नॉन-वेज को खाने से बचें. फलों के साथ डेयरी उत्पादों का सेवन करने से शरीर में टॉक्सिन बनता है जो शरीर में थक्के बनाने का काम करता है.

Loading...