जानें जानीमानी रेस्टलर बबिता फोगाट की फिटनेस का राज, डाइट में करती हैं ये शामिल

- in जीवनशैली

बबिता फोगाट आज अपना बर्थडे सेलिब्रेट कर रही हैं. वह भारतीय महिला पहलवान हैं. अपने शानदार खेल के जरिये उन्‍होंने कई पदक अपने नाम किए. फिल्म ‘दंगल’ बबीता और उसकी बहन के जीवन पर आधारित थी. बबीता ने नई दिल्ली में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीत कर देश का मान बढ़ाया. वहीं 2014 में ग्लासगो राष्ट्रमंडल खेलों में वह स्वर्ण पदक जीतने में सफल रहीं. इसके अलावा भी कई अन्‍य सम्‍मान भी उनके नाम हैं. उनके इस शानदार प्रदर्शन के लिए उनके पिता का भरपूर सहयोग उनको मिला. साथ ही उनकी कठिन मेहनत ने भी उन्‍हें इस मुकाम तक पहुंचाने में मदद की.

उनके इस शानदार प्रदर्शन के पीछे उनकी कमाल की फिटनेस का अहम योगदान रहा. आज उनकी इसी फिटनेस के कुछ सीक्रेट सामने ला रहे हैं. उन्‍होंने कई बार अपनी फिटनेस, एक्सरसाइज, सेल्फ डिसिप्लिन और डाइट के बारे में बात की. एचटी में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक उनकी फिटनेस का राज यह है कि वह घर का बना भोजन करती हैं और नियमित व्यायाम करना उनके रूटीन में शामिल है.

जंक फूड से बनाए रखती हैं दूरी-

वह ज्यादातर घर का बना खाना ही खाना पसंद करती हैं. इसके अलावा अपनी फिटनेस को बनाए रखने के लिए वह जंक फूड से दूरी बनाए रखती हैं. साथ ही वह चाय या कॉफी भी नहीं पीतीं. वहीं तले खाने से भी दूरी बनाए रखती हैं. बबिता फोगाट के दिन की शुरुआत केले, सेब और ताजा गाजर और अनार के जूस से होती है. वहीं वर्कआउट के बाद वह भीगे हुए बादाम से बना एक विशेष पेय लेती हैं. वह दिन भर पर्याप्त मात्रा में पानी पीती हैं, ताकि शरीर में पानी की कमी न होने पाए. साथ ही स्नैक्स के तौर पर वह ड्राई फ्रूट खाती हैं. अपनी फिटनेस के लिए वह हर दिन देसी घी लेती हैं. वहीं एक दिन में कम से कम एक लीटर दूध भी पीना उनकी डाइट में शामिल है. इसके अलावा अपनी विदेश यात्रा के दौरान भी वह अंडे और चिकन लेती हैं. हालांकि वह ज्‍यादातर शाकाहारी भोजन ही लेना पसंद करती हैं, जिसमें दाल, दही, सब्जी और रोटी होती है.

Loading...

संतुलित डाइट के साथ संगीत भी जरूरी-

जहां संतुलित डाइट उनकी फिटनेस का राज है, वहीं रोजाना लगभग पांच घंटे व्यायाम और ट्रेनिंग भी उनकी फिटनेस को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं. इसके अलावा शाम के समय वह कुश्ती का अभ्यास करती हैं. सप्ताह के 6 दिन कठोर व्यायाम करने के बाद वह रविवार के दिन पूरी तरह आराम करती हैं. ताकि शरीर पूरी तरह स्वस्थ रह सके.

एक पहलवान के लिए एकाग्रता और ध्यान महत्वपूर्ण हैं और इसके लिए एक स्पष्ट और शांत दिमाग की आवश्यकता होती है. इसके लिए वह हरियाणवी और पंजाबी संगीत सुनना पसंद करती हैं. इसके अलावा वह ओम का जप करती हैं, इससे उन्‍हें शांत रहने और अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है.

Loading...