नियम शिथिल कर ब्लड कैंसर पीड़ित IIT के छात्र को CM योगी ने की सहायता,

- in राजनीति

गरीब, किसान, पीड़ित तथा बीमार शख्स की मदद करने को सीएम योगी आदित्यनाथ हमेशा तत्पर रहते हैं। जनप्रतिनिधियों के साथ ही सीएम कार्यालय में सम्पर्क करने वालों की तत्काल मदद करने वाले सीएम योगी आदित्यनाथ अब तो सोशल मीडिया से भी किसी पीड़ित की मदद करने को आगे रहने लगे हैं।

आइआइटी रुड़की के प्रतिभाशाली तथा शोध छात्र आशीष दीक्षित की मदद के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ी मानवीय पहल की है। उन्होंने छात्र को चिकित्सा के लिए दस लाख रुपया की सहायता देने की खातिर अनेक नियमों को शिथिल कर दिया है। पिता के सरकारी सेवा में होने के साथ ही आशीष को संस्थान से स्कालरशिप मिलने के कारण ही कहीं से भी सरकारी मदद मिलने में अड़चन थी। इसके बाद भी सीएम योगी आदित्यनाथ ने नियम को शिथिल कर आशीष की मदद की है।सोशल मीडिया पर आइआइटी रूड़की के शोध छात्र आशीष दीक्षित की मदद के लिए आईआईटी छात्रों ने सोशल मीडिया कैंपेन शुरू किया था। इसकी जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आशीष कुमार दीक्षित के इलाज का पूरा खर्च उठाने का निर्णय करने के साथ उसके परिवार से सम्पर्क किया।

लखीमपुर खीरी में वन विभाग के कर्मी का प्रतिभाशाली बेटा आइआइटी रूड़की में शोध छात्र है। उसके ब्लड कैंसर से पीड़ित होने की जानकारी सीएम योगी आदित्यनाथ को सोशल मीडिया से मिली। इसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वयं परिवार से सम्पर्क कर पीड़ित परिवार को दस लाख रुपया की आर्थिक मदद देने के साथ ही संजय गांधी पीजीआइ के निदेशक को छात्र आशीष दीक्षित के बेहतर से बेहतर इलाज का तथा वहां पर भी परिवार को हरसंभव मदद देने को कहा है।

Loading...

ब्लड कैंसर से पीड़ित शोध छात्र आशीष दीक्षित के बारे में सोशल मीडिया से जानकारी मिलने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ उसके साथ ही उसके परिवार की मदद करने के लिए एक्टिव हो गए। आशीष कुमार दीक्षित लखीमपुर के वनकर्मी अशोक कुमार दीक्षित का इकलौता बेटा है। इस बेहद मेधावी छात्र आशीष दीक्षित का संजय गांधी पीजीआई में ब्लड कैंसर का इलाज चल रहा है।

आशीष कुमार दीक्षित आइआइटी रुड़की में डिपार्टमेंट ऑफ मैथमैटिक्स में पीएचडी स्कॉलर हैं। वह पढ़ाई के साथ ही खेल में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते रहे, लेकिन इसी वर्ष अचानक जांच में उन्हेंं ब्लड कैंसर का पता चला। उसके बाद से ही उनका इलाज लखनऊ के एसजी पीजीआई में चल रहा है। शुरुआत में इलाज का खर्च करीब दस लाख रुपया बताया गया था, लेकिन अब ब्लड क्लॉटिंग आदि के कारण खर्च करीब 22 लाख रुपए तक बढ़ गया है। इस दौरान आशीष के परिवार की तरफ से इलाज में करीब 10 लाख रुपए खर्च भी हो गए हैं। अब इस परिवार की आर्थिक हालत ठीक न होने के कारण उन्हेंं मदद की जरूरत पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ी पहल की है।

 

Loading...