शिवराज सिंह चौहान ने कहा- हम चाहते तो MP में सरकार बना लेते लेकिन हमने बहुमत का किया सम्मान

Loading...

मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान झारखंड के धनबाद में चुनाव प्रचार करने पहुंचे। उन्होंने वहां कहा कि मध्य प्रदेश में सरकार का तख्तापटल की संभावना से इनकार कर दिया। कांग्रेस को सिर्फ तीन सीटें ही भाजपा से ज्यादा मिली हैं। उन्होंने कहा कि हम चाहते तो मध्य प्रदेश में सरकार बना लेते लेकिन हमने बहुमत का सम्मान किया। शिवराज ने यह भी कहा कि मध्य प्रदेश में ढाई सीएम की सरकार है। कमलनाथ के साथ दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया भी है। ये सभी आपस में ही लड़ते रहते हैं। मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार ने चुनाव में किया गया अपना एक भी वादा पूरा नहीं किया। प्रदेश में किसानों का कर्ज माफ भी नहीं हुआ और न ही युवाओं को बेरोजगारी भत्ता दिया गया। इसके बाद भी वो दूसरे राज्यों में चुनाव के दौरान वैसे ही वादे कर रहे हैं। लोगों को इनकी झूठी बातों पर विश्वास नहीं करना चाहिए।

शिवराज सिंह चौहान ने निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस और सभी विपक्षी दल पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं। वहां लगातार हिंदुओं के साथ ज्यादती हो रही है। उस देश के प्रधानमंत्री इमरान खान को अब हमारे देश में मानव अधिकार हनन की चिंता सता रही है। उधर कांग्रेस भी इसी बयान को लेकर शोर मचा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का महागबंधन सभी भ्रष्टाचारी हैं। कांग्रेस हमेशा से ही धोखा देने वाली पार्टी रही है। चौधरी चरण सिंह को छह माह में, चंद्रशेखर को चार माह में, देवगौड़ा को नौ माह में, गुजराल को उससे भी कम समय में चलता कर दिया। कुमारस्वामी तो जब तक मुख्यमंत्री रहे, रोते ही रहे। लोग इतने परेशान हुए कि उपचुनाव में 15 में 12 पर भाजपा को जिता दिया।

Loading...