मोहम्मद अली जिन्ना ने सिर्फ भारत का बंटवारा कराया: सीएम योगी आदित्यनाथ

लखनऊ। देश के पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के आगमन पर कल अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर के विवाद के पर हिंसा के बाद अभी माहौल शांत भी नहीं हो पाया कि आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी उनको लेकर बयान दिया है।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में प्रचार के लिए रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक प्राइवेट न्यूज चैनल से कहा कि मोहम्मद अली जिन्ना ने सिर्फ बंटवारा का काम किया है। एएमयू में जिन्ना की तस्वीर का विवाद अभी पूरी तरह से थमा नहीं है, इसी बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मुद्दे पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि भारत में जिन्ना पर जश्न मनाने का कोई सवाल ही नहीं है। जिन्ना ने हमारे देश का बंटवारा किया और हम किस तरह उनकी उपलब्धियों को बखान कर सकते हैं। वह तो भारत के प्रधानमंत्री बनने के प्रयास में थे, जब उनका प्रयास सफल नहीं हो सका तो फिर भारत का बंटवारा करा कर पाकिस्तान की स्थापना करवा दी।

आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कर्नाटक में दो जगह पर चुनावी सभा करेंगे। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ कर्नाटक पहुंच रहे हैं। आज पांच जिलों में पांच सभाओं को संबोधित करेंगे। पहली सभा उत्तर कन्नड़ जिले में होगी तो आखिरी सभा चिकमंगलूर में होगी। वेरात में चिकमंगलूर में ही रात्रि विश्राम करेंगे। सुबह 10.25- 11.30 बजे- सिरसी (उत्तर कन्नड़ ज़िला) में सभा। दोपहर 12.25- 01.25 बजे- सागर( शिवमोगा ज़िला) में सभा। दोपहर 02.50- 03.50 बजे- तिपतूर ( तुमकुरू ज़िला) में सभा। दोपहर 04.40– 5.40 बजे- हसन में सभा। शाम 06.35- 07.35 बजे- चिकमंगलूर में सभा।

Loading...

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के यूनियन हाल में पाकिस्तान के जनक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर लगने के मामले में कल बड़े बवाल के बाद आज भी वहां पर माहौल अशांत है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमने कल एएमयू में हिंसा के पूरे मामले में जांच के आदेश दिए हैं, जल्द ही उन्हें इसकी रिपोर्ट भी मिल जाएगी। जैसे ही रिपोर्ट मिलेगी, वह इस मामले में एक्शन लेंगे। योगी आदित्यनाथ के इस कड़े रुख से साफ है कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जिन्ना की तस्वीर मामले में उत्तर प्रदेश सरकार कोई कोताही नहीं बरतेगी।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जिन्ना की तस्वीर को लेकर लगातार हो रहे विवाद के बाद बीते गुरुवार को वहां के यूनियन हॉल से जिन्ना की तस्वीर को हटा दिया गया था। इसके पीछे तर्क दिया गया था कि अभी परिसर की सफाई चल रही है इसलिए तस्वीरों को हटाया जा रहा है।

गौरतलब है कि अलीगढ़ से भाजपा सांसद सतीश गौतम ने एएमयू के कुलपति तारिक मंसूर को लिखे पत्र में विश्वविद्यालय छात्रसंघ के कार्यालय की दीवारों पर पाकिस्तान के संस्थापक की तस्वीर लगे होने पर आपत्ति जताई थी। विश्वविद्यालय के प्रवक्ता शाफे किदवई ने दशकों से लटकी जिन्ना की तस्वीर का बचाव किया और कहा कि जिन्ना विश्वविद्यालय के संस्थापक सदस्य थे और उन्हें छात्रसंघ की आजीवन सदस्यता दी गई थी।

 
Loading...