सूर्यप्रताप शाही ने बताया- किसान कल्याण दिवस पर आज 10 लाख किसानों से होगा सीधा संवाद

लखनऊ। बुधवार को सरकार दस लाख किसानों से सीधे संवाद करेगी। संवाद करने वालों में सरकार के मंत्रियों के अलावा स्थानीय जनप्रतिनिधि, कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीके) के 500 वैज्ञानिक और अधिकारी होंगे। वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के मकसद से आयोजित इस कार्यक्रम को ‘किसान कल्याण दिवस का नाम दिया गया है।

कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया कि कार्यक्रम के तहत प्रदेश के सभी 827 ब्लाकों पर किसान गोष्ठी और किसान मेले आयोजित होंगे। इस आयोजन में कृषि और इससे जुड़े अन्य विभाग, मसलन पशुपालन, उद्यान, गन्ना, मछली पालन और दुग्ध विकास के प्रतिनिधि भी भाग लेंगे। पशुपालन विभाग इस मौके पर शिविर लगाकर पशुओं के इलाज के साथ टीकाकरण और कृत्रिम गर्भाधान की सुविधा भी मुहैया कराएगा।

कृषि मंत्री ने बताया कि सरकार और संगठन मिलकर किसानों के व्यापक हित में कार्यक्रम को सफल बनाने में जुटे हैं। प्रयास है कि हर आयोजन में करीब 10 हजार किसान भाग लें। संबंधित विभागों के अधिकारी किसानों को विभागीय योजनाओं के बारे में जानकारी देंगे और केवीके के विशेषज्ञ खेती के उन्नत तौर-तरीके, मृदा परीक्षण और संतुलित उर्वरकों के प्रयोग से होने वाले लाभ आदि के बारे में बताएंगे।

Loading...

हर कार्यक्रम में क्षेत्र के सात प्रगतिशील किसानों को सम्मानित किया जाएगा। इसमें से अनिवार्य रूप से एक महिला और एक अनुसूचित जाति-जनजाति का किसान होगा। बाकी किसान इनकी तरक्की के कारणों को जानें और इन पर अमल कर अपनी आय बढ़ाएं इसके लिए सम्मानित होने वाले किसान अपना अनुभव भी साझा करेंगे।

किसानों को मिलेगा उपयोगी साहित्य

किसानों को उन्नत खेती के तरीके के बारे में दी गई सलाह स्थायी हो, वे इन पर अमल करें, इसके लिए हर विभाग के स्टाल पर उपयोगी साहित्य भी निश्शुल्क उपलब्ध रहेंगे। कृषि विभाग ने सभी विभागों से जुड़ी उपयोगी जानकारियों को समेटते हुए ‘कृषि संचयिका के नाम से एक पाकेट डायरी भी वितरण के लिए छपवायी है।  

Loading...